Chronic Constipation Is The Mother of All ills

0
183
Chronic constipation at alloverindia.in

पुरानी कब्ज सब बीमारियों की माँ है इसके बारे में किसी भी प्राणी को जरा सी भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। प्याज कब्ज का सबसे सस्ता और सरल इलाज है। खाने के साथ अधिक से अधिक प्याज खाएं, हो सके सोते समय प्याज का रस नींबू डाल कर चार चम्मच पी कर सोएं। पेट के कीड़े क्या बच्चे क्या बूढ़े, यह रोग आम तौर पर पेट की खराबी के कारण ही लगता है यह कीड़े स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होते हैं, जो भोजन आप खाते हैं उसे यह कीड़े चटकर जाते हैं, इसका इलाज यही है कि आप प्याज अधिक मात्रा में खाएं। जो बच्चे प्याज नहीं खा सकते उन्हें प्याज का रस निकाल कर दो बूँद शहद के साथ रात को सोते समय पिला दें, इससे कीड़े मर जाएंगे। पेचिश एवं दस्त 1. ऐसे रोगियों के लिए प्याज काट कर उसे छील कर पानी से साफ करें और फिर 250 ग्राम गाय के दूध के दही के साथ रोगी को खिला देने से लाभ होगा। 2. प्याज को पीस कर नाभि पर लेप करें इससे दस्त बंद हो जाएंगे। 3. तीस ग्राम प्याज के रस में राई के दाने के सामान अफीम डाल कर रोगी को देने दस्त रोग ठीक हो जाता है।

पीलिया आज कल पीलिया रोग बहुत भयंकर रूप धारण कर रहा है, इसलिए इसका उपचार बड़े ध्यान से करना जरुरी है। अक्सर लोग इस रोग के कारण मर जाते हैं, परन्तु मैं आपको  सरल उपाय यहाँ पर बता रहा हूँ जो बहुत सरल और सस्तब है जिसे घर में स्वयं किया जा सकता है। छोटे प्याज छील कर उनको चोकोर काट कर सिरके या नींबू के रस में डाल दें। फिर काला नमक, काली मिर्च डालकर हर रोज सुबह एक पूरा कटा प्याज खाने से पीलिया रोग जाता रहेगा। खूनी बवासीर 100 ग्राम प्याज के रस, 50 ग्राम कुजा मिश्री, इन दोनों को मिलाकर सुबह के समय सेवन करने से बवासीर ठीक हो जाती है।

jaundice sign at alloverindia.in

पेशाब बंद होना 1. एक किलो पानी में 50 ग्राम प्याज के टुकड़े डाल कर उबालें फिर उन्हें छान कर चार चम्मच शहद मिला लें। इसे हर रोज तीन बार पिलाने खुल कर और साफ आने लगेगा। 2. चार प्याजों की चटनी पीस कर इतना ही गेहूँ आटा डाल कर इसका हलवा बना लें, इसे हल्का से गर्म रहने पर पेट में पेशाब वाले स्थान पर इसकी मालिश करें पेशाब खुल कर आएगा। पथरी प्याज के रस में चीनी डालकर शर्बत बना कर पीने से पथरी कट – कट कर पेशाब के द्धारा बाहर निकल जाती है।

दमाखाँसी 1. प्याज को कूट कर सूँघने से पुरानी खांसी और दमा रोग ठीक हो जाता है। इससे फेफड़ों के अन्य रोग भी ठीक हो जाते हैं। 2. प्याज के रस में शहद मिलाकर चाटने से खाँसी रोग ठीक हो जाता है। गठिया सरसों का तेल और प्याज का रस मिलाकर लगाने से गठिया रोग भी ठीक जाता है। हैजा 1. हैजा रोगी के लिए 3 ग्राम प्याज का रस थोड़ा सा नमक डालकर एक – एक घंटे के पश्चात पिलाते रहें, इससे हैजा रोगी ठीक हो जाएगा। 2. प्याज के रस में पोदीने का रस मिलाकर दस – दस मिनट के पश्चात पिलाते रहें, बहुत जल्दी लाभ होगा। 3. नींबू का रस एक भाग, हरा पोदीना प्याज का रस, आधा – आधा भाग मिला कर थोड़ी – थोड़ी देर के पश्चात रोगी को पिलाते रहने से लाभ होगा।
Arthritis at alloverindia.in

हृदय रोगों के लिए जो लोग हृदय रोग के हाथों चिंतित हैं, उन्हें हर रोज एक प्याज खाने के साथ हर रोज खाएं तो हृदय रोग से मुक्ति मिलेगी। जो लोग प्याज को रस हर सुबह शाम उठकर सेवन करें तो हृदय रोग से बचा जा सकता है। मर्दाना शक्ति मर्दाना कमजोरी कभी – कभी जान लेवा साबित होती है, कि आदमी छोटी आयु में भटक कर आत्म हत्या तक कर लेते हैं, विशेष रूप से युवा वर्ग इस रोग का शिकार होकर बुरी तरह भटक रहा है, अब मैं आप को इस रोग का सरल उपचार बता रहा हूँ। 1. शहद के साथ प्याज का रस सेवन करने से नयी शक्ति आती है नये विचार आते हैं, साथ ही मर्दाना कमजोरी दूर हो जाती है। 2. सफ़ेद प्याज का रस निकाल कर इसमें उतना ही अदरक का रस दो चम्मच शहद मिला कर सब को इकट्ठा कर पांच ग्राम देशी घी भी मिला लें इसे निरंतर 60 दिन तक सेवन करने से नामर्द भी बन जाते हैं।   

स्वपनदोष सफ़ेद प्याज के रस  10 ग्राम, अदरक का रस 8 ग्राम, शहद 5 ग्राम, घी देशी, 3 ग्राम, इन सब चीज़ों को मिलाकर सोते समय पीने  स्वपनदोष रोग भाग जाता है। सांप काटे का इलाज प्याज का रस, 15 ग्राम, सरसों का तेल 15 ग्राम, इन दोनों को मिलाकर रोगी को आधे आधे घंटे के पश्चात पी लेने से जहर उतर जाता है। त्वचा रोगों का इलाज प्याज को कच्चा या पकाकर खाने से चर्म रोगों का इलाज हो सकता है, मानव शरीर की त्वचा जब भी कभी दोष पूर्ण हो तो हर रोज सुबह उठकर प्याज के रस में थोड़ा सा नीम के पत्तों का रस मिलाकर पीने से सारे चर्म रोग दूर हो जाते हैं, चेहरे पर निखार आ जाता है फोड़े फुंसियाँ भी हट जाते हैं।

Treat skin diseases at alloverindia.in

टी. बी. क्षय रोग केवल भारत की ही बात नहीं इग्लैंड के एक डॉ. पर्स कच्चा प्याज को टी. बी. रोग का सबसे सरल इलाज बताया करते थे। डॉ. डब्लयू सी मिनचे ने इस विषय में जोर देकर कहा है कि मानव शरीर का क्षय रोग के कीटाणुओं के आक्रमण को रोकने का एक मात्र साधन प्याज खाना है, प्याज स्वास्थय रक्षक और कीटाणु नाशक भी है। इटली के स्वास्थ्य विभाग के विद्धानो ने अपने परीक्षणों से यह सिद्ध किया है कि – प्याज का रस क्षय रोगियों अति उपयोगी है। नकसीर नकसीर आने पर प्याज का रस एक – एक बूँद दोनों नथनों में डालने से रोगी जल्दी ठीक हो जाता है। उल्टी अदरक और प्याज का रस एक – एक चम्मच मिला कर उल्टी रोगी को दो – दो घंटे पश्चात पिलाया जाए तो उल्टी बंद हो जाएगी। विशेष प्याज केवल औषधि उपचार के रूप में ही प्रयोग में लाएं तभी यह आपको लाभ दे सकता है, अमेरिकन डॉ. रॉबर्ट के अनुसार:- मूत्रव्याधि से सम्बंधित रोगियों के लिए प्याज हानिकारक सिद्ध हो सकता है, क्योंकि इसमें पयरतु एसिड नामक पदार्थ पाया जाता है जो पेशाब रोगों के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है, दूसरी ओर प्याज में पाया जाने वाला सोडियम, गंधक पोटाश आदि पदार्थ मानव शरीर के लिए अति उपयोगी हैं।