ब्रेकिंग न्यूज़ क्या है सुनियांरो के लिए एक्साइज ड्यूटी जरा पढ़िए।

0
267
Shocking News Jwalars Just Read Excise Duty

मान लीजिए आप सुनार के पास गये आपने 10 ग्राम प्योर सोना 30,000 हजार रुपए का खरीदा। उस सोने को लेकर आप सुनार के पास हार बनवाने गए। सुनार ने आपसे 10 ग्राम सोना लिया और कहा की 2000 रूपय बनवाई लगेगी। आपने ख़ुशी से कहा ठीक है। उसके बाद सुनार ने 1 ग्राम सोना निकाल लिया और 1 ग्राम का टांका लगा दिया। क्योंकि बिना टांके के आपका हार बन ही नहीं सकता। यानी कि 1 ग्राम सोना ₹3000 का निकाल लिया और ₹2000 आपसे बनवाई अलग से ले ली। यानी आपको ₹5000 का झटका लग गया। अब आपके ₹30,000 सोने की कीमत मात्र ₹25,000 बची और सोना भी एक ग्राम कम होकर 9 ग्राम शेष बचा। बात यहीं खत्म नहीं हुई। उसके बाद अगर आप पुनः अपने सोने के हार को बेचने या कोई और आभूषण बनवाने पुनः उसी सुनार के पास जाते हैं। तो वह अपने पहले टांका काटने की बात करता है और सफाई करने के नाम पर 0.5 ग्राम सोना और कम हो जाता है। अब आपके पास मात्र 8.5 ग्राम सोना ही बचता है। यानी के 30,000 हजार का सोना मात्र ₹25500 का बचा। आप जानते होंगे कि ₹3000 का सोना + 2000 रूपय बनवाई = 32,000 रूपय। 1 ग्राम का टांका कटा ₹3000 जमा 0.5 ग्राम पुनः बेचने या तुड़वाने पर कटा मतलब सफाई के नाम पर = 1,500/- शेष बचा सोना 8.5 ग्राम यानि कीमत ₹32,000 – ₹6,500 का घाटा = ₹25,500/-

भारत सरकार की मंशा क्या है? एक्साइज ड्यूटी लगने पर सुनार को रसीद के आधार पर उपभोक्ता को पूरा सोना देना होगा और जितने ग्राम का टांका लगेगा उसका सोने के तोल पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। जैसा की आप के सोने की तोल 10 ग्राम है और टांग का 1 ग्राम का लगा तो सुनार को रसीद के आधार पर 11 ग्राम वजन करके उपभोक्ता को देना होगा। इसलिए सुनार हड़ताल पर हैं कि अब उनका धोखाधड़ी का भेद खुल जाएगा। कृपया इस समाचार को अपने सगे-संबंधियों और अपने मित्रों के साथ जल्द से जल्द शेयर करें ताकि उनको भी इस समाचार का पता लगे।

Shocking News Jwalars Just Read Excise Duty